Constitution

Constitution of the Party

Sections: There are 35 Sections in the Constitution of the Party.
Name– Name of the party will be Rashtriya Lok Samta Party
Objective- Rashtriya Lok Samta Party will work towards upholding the principles of Sovereignty, Socialism, Secularism, and Democracy, as enshrined in the Constitution of India and will strengthen the unity and integrity of the nation.
The Party believes in the principles and values of the freedom movement drawing inspiration from the principles of Mahatma Jyotiba Phule, Rashtrapita Mahatma Gandhi, Dr. BR Ambedkar, Dr. Ram Manohar Lohia, Lok Nayak Jayaprakash Narayan and Jana Nayak Karpuri Thakur. The Party is dedicated to work towards a Socialist, Secular and Democratic nation. The party will work towards the decentralization of economic and political powers of the state. In the social order, the party accepts the principles of social justice, equality and peaceful co-existence. Welfare of farmers will be the core working principle of the Party. The Party will adopt the peaceful mediums of expression and protests including Satyagraha and peaceful protests.
Organizational Structure– The Party shall have following organizations:
National-
• General Convention, Special Convention
• National Council
• National Executive
State Units-
• State Council
• State Executive
District Units-
• District Council
• District Executive
Intermediate Units
• Block/ Tehsil or Constituency Council
• Block/ Tehsil or Constituency Executive
Note:
• Block/ Tehsil or Constituency and other Primary Units shall be decided by the appropriate State Councils.
• The term ‘state’ used in constitution of the Party shall also mean ‘Union Territory’.
• The cities with Municipal Councils shall be considered as Districts according to the Constitution of the Party.
• The cities with a population extending 17 Lakhs might be divided into more than one district by the National Council.
Powers of State and Central Units
• The State Units of the Party shall be constituted according to the States and Union Territories as described by in the First Schedule of the Constitution of India. However, the National Executive may grant the permission to constitute Regional Units in Metropolitan Cities of Kolkata, Mumbai or Chennai, which would work under the respective State Units. The Rights and Executive Powers of these units shall be decided by the respective State Units.
• The Headquarters of State Units would be situated at the Capital of the States or Union Territories. However, the State Council can change the location or shift the Headquarters after the permission of National Executive.
Membership
• Any individual who is a citizen of India, is of above 18 years of age, and accepts Section 2 of this Constitution, can fill the ‘Form A’ and pay a Triennial donation of Rupees 5 to become a Primary Member of the Party. He/she should not be associated of affiliated to any communal or political organization which has a different membership guidelines and a different Constitution. Any MLA or Office Bearer of the Party shall not be a part of any organization which are contrary to the principles and Constitution of the Rashtriya Lok Samta Party.
• An individual can work as the Primary Member of the Party only the place where he/ she lives in or works for livelihood.
• The term of Primary Membership and Active Membership shall be for three years.
• Any individual who makes 25 Primary Member or paying rupees 201 shall be eligible to fill the ‘Form B’ to become the Active Member of the Party.
• A person fulfilling following criteria shall be eligible to become an Active Member of the Party
 Who is a citizen of India and is above 18 years of age.
 Does not consume liquor or prohibited drugs.
 Does not believe in discrimination on any grounds.
 Believes in Nationalism and Secularism and respects all the religions and castes
 Promises to conduct the programs decided by the National Executive.
 Subscribes the magazine published by the party for three years, if any.
• The Primary Membership and Active membership shall continue till the period the member abides by the principles and Constitution of the Party and pays the Triennial membership donation. Fulfilling these conditions, a member would be recognized as Primary Member or Active Member even without filling the membership form for the subsequent years.
• The donations by the Primary members and the Active Members shall be divided in following ratio:
National Council: 15%
State Council: 25%
District Council: 25%
Other Units: 35%
Note: The manner in which membership donations for other units will be divided shall be decided by the respective State Council.
All the members of the National, State and District Units shall donate the specified donations to the National Executive.
Every District Units shall meet for not less than one times within a period of Six months.
Term of Office: The Term of Office of all the office bearers of the Councils and the Committees shall be 3 years.
Federal Structure of the Councils:
Block/ Tehsil/ Constituency Council: Under this Council, the Primary Units where the number of members is up to 100 shall choose one member each and those with number exceeding 100 shall chose two members each. Besides, members of the Party working under Panchayat Samitis or Municipal Councils shall select 10 representatives within themselves. The number of members in the council shall not exceed 21.
District Council: The Block Councils shall work under the supervision of the respective District Councils. The members in the District Council shall come from diverse social backgrounds. Senior RLSP leaders of district level shall be the members of the Council. The number of members in the Council shall not exceed 100.
State Council: One member each from the Block Councils and District State Council shall be the members of the State Council. All the MLAs and MPs of the RLSP in the state shall be the members of the Council. All the members of the National Council staying in the state shall be the members of the Council. The president of the party shall nominate the following in the State Council: 7 Vice-presidents, 1 Secretary General, 1 Treasurer, 9 Secretaries, 11 Organizational Secretaries, and 5 Secretaries. The leader of the MLAs would be the nominal head of the State Council.
National Council: All the Presidents of the State Councils, District Councils, State Leader of MLAs, and the leader of MPs of the RLS Party shall be the members of the National Council. All the MPs of the Party shall be the members of the Council. All the Former presidents of the Party, Former Prime Ministers, and Chief Ministers from the RLSP Party, if any shall be the members of the National Council. All the Councils under the federal structure shall work under the National Council. The Council shall ensure that all the other Councils are working as per the provision of this Constitution. The National Council, among its members shall select and constitute the National Executive. All the members of the National Council shall pay an annual membership fee of Rupees 500.

The National Executive: There would be 74 members in the National Executive besides the President. The President of the National Executive shall appoint the following members: 5 Vice-presidents, 1 Chief General Secretary, 1 Treasurer, 10 General Secretaries, 5 Secretaries, and 11 Organizational Secretaries. The number of members in quorum to call the meeting of the National Executive shall be 15.

Sessions/ Conferences: The Party would call for two kinds of conferences: Plenary Sessions and Special Sessions.
The Plenary Session shall be called once in 3 years, decided by the National Council. All the Members of the Party including the Presidents of Councils shall participate as delegates in the Plenary Session.
The Special Conference shall be called for whenever the National Council wishes or on the request of the State Councils made to the National President of the Party.

Election of the Party President: The National Executive shall depute one of its members as the Electoral Officer. The Electoral Officer shall be barred from taking up any position in the party for the 3 subsequent years. Any 11 members of the Party shall nominate any member for the candidature of Party President. All the members of the National Council shall vote and choose the National Party President amongst the nominated candidates.

Flag: The flag of the RLSP Party shall bear three colours. The upper part of the flag shall be of Blue colour, White colour shall be in the middle of the Flag, and Green colour shall be at the bottom of the flag. The colours shall be in the ratio of 1:1:1. The ratio of length and breadth of the flag shall be 3:2.
National Office/ Headquarters: The National Office of the Party shall be situated in Patna, capital of Bihar.
Election Symbol: The Election Symbol of the party shall be the one decided/ allotted by the Election Commission of India.

पार्टी का संविधान

धाराएं: पार्टी के संविधान में 35 धाराएं हैं.

 

नाम- पार्टी का नाम लोक समता पार्टी होगा.

 

उद्देश्य- लोक समता पार्टी संविधान द्वारा स्थापित संप्रभुता, समाजवाद, धर्मनिरपेक्षतावाद और लोकतंत्र के सिद्धांतों को सुरक्षित करेगी और राष्ट्र की एकता और अखंडता को बरकरार रखने के लिए कार्य करेगी.

पार्टी स्वतंत्रता आंदोलन के सिद्धांतों और मूल्यों में विश्वास करती है और महात्मा ज्योतिबा फुले, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, डॉ. बीआर अम्बेडकर, डॉ. राम मनोहर लोहिया, लोक नायक जयप्रकाश नारायण और जन नायक कर्पूरी ठाकुर के सिद्धांतों से प्रेरणा लेती हैं. पार्टी समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक राष्ट्र के लिए काम करने के लिए समर्पित है. पार्टी राज्य की आर्थिक और राजनीतिक शक्तियों के विकेंद्रीकरण की दिशा में काम करेगी. सामाजिक क्रम में, पार्टी सामाजिक न्याय, समानता और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के सिद्धांतों को स्वीकार करती है. किसानों का कल्याण पार्टी के मुख्य कार्य सिद्धांत होगा. पार्टी सत्याग्रह और शांतिपूर्ण प्रदर्शन सहित शांतिपूर्ण अभिव्यक्ति और विरोध प्रदर्शन माध्यमों को अपनाएगी.

 

संगठनात्मक ढांचा– पार्टी के पास निम्नलिखित भाग होंगे-1. राष्ट्रीय      क. सामान्य सम्मेलन, विशेष सम्मेलन      ख. राष्ट्रीय परिषद      ग. राष्ट्रीय कार्यकारिणी 2. राज्य इकाइयां      क. राज्य परिषद      ख. राज्य कार्यकारिणी 3. जिला यूनिट      क. जिला परिषद      ख. जिला कार्यकारिणी 4. मध्यवर्ती इकाइयां      क. ब्लॉक / तहसील या निर्वाचन परिषद      ख. ब्लॉक / राज्य या निर्वाचन क्षेत्र कार्यकारिणी नोट:क. ब्लॉक / तहसील या निर्वाचन क्षेत्र और अन्य प्राथमिक इकाइयों का निर्धारण सम्बंधित राज्य परिषदों द्वारा किया जाएगा.ख. पार्टी के संविधान में इस्तेमाल होने वाले शब्द ‘राज्य’ का मतलब होगा ‘संघ शासित प्रदेश’.ग. नगर परिषद वाले शहरी क्षेत्र को पार्टी के संविधान के अनुसार जिले के रूप में माना जाएगा.घ. 17 लाख की आबादी वाले शहर परिषद द्वारा एक से अधिक जिलों में विभाजित किए जा सकते हैं. राज्य और केंद्रीय इकाइयों के अधिकार1. भारत के संविधान की पहली अनुसूची में वर्णित राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के अनुसार पार्टी के राज्य इकाई का गठन किया जाएगा. हालांकि, कोलकाता, मुंबई या चेन्नई के महानगरीय शहरों में क्षेत्रीय इकाइयों का गठन करने की अनुमति दे सकता है, जो संबंधित राज्य इकाइयों के तहत काम करेंगे. इन इकाइयों के अधिकार और कार्यकारी शक्तियों का निर्धारण संबंधित राज्य इकाइयों द्वारा किया जाएगा.2. राज्य इकाइयों का मुख्यालय राज्यों या संघ शासित प्रदेशों की राजधानी में स्थित होगा. हालांकि, परिषद की अनुमति के बाद राज्य परिषद स्थान बदल सकती है या मुख्यालय में बदलाव कर सकती है. सदस्यताक. 1. कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक है, 18 वर्ष से अधिक आयु का है, और इस संविधान की धारा 2 को स्वीकार करता है, ‘फॉर्म ए’ भर सकता है और एक 5 रूपये का त्रैवार्षिक दान देकर पार्टी का प्राथमिक सदस्य बन सकता है. उसे किसी भी सांप्रदायिक या राजनीतिक संगठन से संबद्ध नहीं होना चाहिए, जिसमें अलग-अलग सदस्यता का दिशानिर्देश है और एक अलग संविधान है. कोई भी विधायक या पार्टी का पदाधिकारी किसी भी संगठन का हिस्सा नहीं होंगे, जो कि लोक समता पार्टी के सिद्धांतों और संविधान के विपरीत कार्य करता हो.    2. एक व्यक्ति पार्टी के प्राथमिक सदस्य के रूप में केवल जिस क्षेत्र में वह रहता है या आजीविका के लिए काम करता है, के रूप में काम कर सकता है.    3. प्राथमिक सदस्यता और सक्रिय सदस्यता की अवधि तीन वर्ष के लिए होगी. ख. कोई व्यक्ति जो 25 प्राथमिक सदस्य बना देता है या 201 रुपये का भुगतान करता है, पार्टी के सक्रिय सदस्य बनने के लिए ‘फॉर्म बी’ भरने के लिए पात्र होगा.निम्नलिखित मापदंड को पूरा करने वाला व्यक्ति पार्टी का सक्रिय सदस्य बनने का पात्र होगा      1. भारत का नागरिक है और 18 साल से ऊपर है.      2. शराब या निषिद्ध दवाओं का उपभोग नहीं करता है.      3. किसी भी आधार पर भेदभाव में विश्वास नहीं करता है.      4. राष्ट्रवाद और धर्मनिरपेक्षता में विश्वास और सभी धर्मों और जातियों का सम्मान करता हो.      5. द्वारा निर्धारित कार्यक्रमों का संचालन करने के लिए प्रतिबद्ध हो.      6. पार्टी द्वारा प्रकाशित पत्रिका, यदि कोई है का तीन साल की सदस्यता ले. ग. प्राथमिक सदस्यता और सक्रिय सदस्यता तब तक जारी रहेगी जब तक सदस्य पार्टी के सिद्धांतो एवं संविधान का पालन करेगा और तीन वर्षीय सदस्यता दान का भुगतान करता रहेगा. इन शर्तों को पूरा करने के बाद, एक सदस्य को प्राथमिक सदस्य या सक्रिय सदस्य के रूप में मान्यता दी जाएगी, इसके बाद के वर्षों के लिए सदस्यता फार्म भरने की आवश्यकता नहीं होगी. घ. प्राथमिक सदस्यों और सक्रिय सदस्यों द्वारा दान निम्नलिखित अनुपात में विभाजित किया जाएगा:       राष्ट्रीय परिषद: 15%      राज्य परिषद: 25%      जिला परिषद: 25%      अन्य इकाइयां: 35%

 

नोट: अन्य इकाइयों के लिए सदस्यता दान का विभाजन करने का निर्णय  संबंधित राज्य परिषद द्वारा लिया जाएगा. ड.. राष्ट्रीय, राज्य और जिला इकाइयों के सभी सदस्य द्वारा निर्देशित दान करेंगे. च. प्रत्येक जिला इकाइयां छह महीने की अवधि के भीतर कम से कम एक बार बैठक बुलाएगी.  कार्यकाल/ कार्यालय की अवधि: परिषदों और समितियों के सभी पदाधिकारियों के कार्यालय का कार्यकाल 3 वर्ष का होगा. परिषदों की संघीय संरचना:1. ब्लॉक / तहसील / निर्वाचन क्षेत्र परिषद: इस परिषद के तहत, प्राथमिक यूनिट जहां सदस्यों की संख्या 100 से ऊपर है, उनमें से प्रत्येक को एक सदस्य चुनना होगा और 100 से ज्यादा की संख्या वाले प्रत्येक यूनिटों को दो सदस्य चुनना होगा. इसके अलावा, पंचायत समिति या नगर परिषदों के अधीन पार्टी के सदस्य अपने में से 10 प्रतिनिधियों का चयन करेंगे. परिषद में सदस्यों की संख्या 21 से अधिक नहीं होगी. 2. जिला परिषद: ब्लॉक काउंसिल संबंधित जिला परिषदों की दिशानिर्देश में काम करेंगे. जिला परिषद के सदस्य विविध सामाजिक पृष्ठभूमि से आएंगे. जिला स्तर के वरिष्ठ आरएलएसपी नेता परिषद के सदस्य होंगे. परिषद में सदस्यों की संख्या 100 से अधिक नहीं होगी. 3. राज्य परिषद: प्रत्येक ब्लॉक परिषद और जिला राज्य परिषद से एक सदस्य राज्य परिषद का सदस्य होगा. राज्य में आरएलएसपी के सभी विधायक और सांसद परिषद के सदस्य होंगे. राज्य में रह रहे परिषद के सभी सदस्य परिषद के सदस्य होंगे. पार्टी के अध्यक्ष राज्य परिषद में निम्नलिखित को नामित करेंगे: 7 उपाध्यक्ष, 1 महासचिव, 1 कोषाध्यक्ष, 9 सचिव, 11 संगठन सचिव और 5 सचिव. विधायक दल के नेता राज्य परिषद के पदेन प्रमुख होंगे. 4. राष्ट्रीय परिषद: राज्य परिषदों के सभी अध्यक्षों, जिला परिषदों, राज्य विधायक दल के नेता, और आरएलएसपी  पार्टी के संसदीय दल के नेता राष्ट्रीय परिषद के सदस्य होंगे. पार्टी के सभी सांसद परिषद के सदस्य होंगे. पार्टी के सभी पूर्व अध्यक्ष, पूर्व प्रधान मंत्री और आरएलएसपी पार्टी के मुख्यमंत्री, यदि कोई है, परिषद के सदस्य होंगे. संघीय ढांचे के तहत सभी परिषद परिषद के तहत काम करेंगे. परिषद सुनिश्चित करेगी कि अन्य सभी परिषद इस संविधान के प्रावधान के अनुसार कार्य करते रहें. परिषद अपने सदस्यों के बीच का चयन और गठन करेगी. परिषद के सभी सदस्य 500 रुपये की वार्षिक सदस्यता शुल्क का भुगतान करेंगे. राष्ट्रीय कार्यकारिणी: राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अध्यक्ष के अलावा अन्य 74 सदस्य होंगे. अध्यक्ष निम्नलिखित सदस्यों की नियुक्ति करेंगे: 5 उपाध्यक्ष, 1 मुख्य महासचिव, 1 कोषाध्यक्ष, 10 महासचिव, 5 सचिव और 11 संगठन सचिव. कार्यकारी की बैठक बुलाने के लिए कोरम में सदस्यों की संख्या 15 होगी. सत्र / अधिवेशन: पार्टी दो प्रकार के अधिवेशन बुलाएगी: पूर्ण अधिवेशन और विशेष अधिवेशनराष्ट्रिय परिषद्  द्वारा तय किए जाने पर, पूर्ण अधिवेशन ३ साल में एक बार बुलाया जा सकेगा. परिषदों के अध्यक्ष सहित पार्टी के सभी सदस्य पूर्ण अधिवेशन में प्रतिनिधि के रूप में भाग लेंगे.राष्ट्रिय परिषद् के विचार करने या पार्टी के अध्यक्ष से राज्य परिषदों के अनुरोध पर विशेष अधिवेशन बुलाया जा सकेगा.

 

पार्टी अध्यक्ष का चुनाव: अपने सदस्यों में से एक को निर्वाचन अधिकारी के रूप में नियुक्त करेगी. निर्वाचन अधिकारी चुनाव के बाद 3 वर्षों के लिए पार्टी में कोई पद नहीं ले सकेगा. के कोई भी 11 सदस्य पार्टी अध्यक्ष की उम्मीदवारी के लिए किसी भी सदस्य को मनोनीत कर सकेंगे. परिषद के सभी सदस्य नामित उम्मीदवारों के बीच पार्टी के राष्ट्रिय अध्यक्ष का चुनाव करेंगे के लिए मतदान करेंगे. ध्वज: आरएलएसपी पार्टी का ध्वज तीन रंगों का होगा. ध्वज का ऊपरी भाग नीला रंग का होगा, सफेद रंग ध्वज के बीच में होगा, और हरा रंग ध्वज के निचले भाग पर होगा. तीनो रंग 1: 1: 1 के अनुपात में होंगे. ध्वज की लंबाई और चौड़ाई का अनुपात 3: 2 होगा. कार्यालय / मुख्यालय: पार्टी का कार्यालय बिहार की राजधानी पटना में स्थित होगा. चुनाव चिन्ह: जो भी चुनाव चिन्ह भारत के चुनाव आयोग द्वारा तय/ आवंटित किया, पार्टी अपने चुनाव चिन्ह के रूप में स्वीकार करेगी.

Call Now