History

History of the Party

To challenge the authoritarian regime of Bihar, a non-political organization named ‘Bihar Nav Nirman Manch’ was constituted in June, 2011 by social leaders and reformers of Bihar. The founders of the organization were several leaders from marginalized communities in Bihar including Shri Upendra Kushwaha, Shri Mangni Lal Mandal, Shri Shankar Jha Azad, Dr. Latuf-ur-Rehman, besides others. Shri Upendra Kushwaha was unanimously chosen as the Convener of the organization.
The organization dedicated itself from the very first day of its inception to wage a war against corruption, red-tapism and nepotism which was the product of the authoritarian regime. Restoring the democratic principles through the path of Socialism and Satyagraha became the working principle of the organization. The Bihar Nav Nirman Manch began its journey with the ‘Sankalp Yatra’, which received tremendous response from the marginalized communities and farmers. They turned up in huge numbers to share their issues and problems. The Manch was surprised with the experiences of the Yatra as it was discovered that the rhetoric of ‘Good-governance’ of the then regime was nothing, but an optical illusion.
The Manch put forward their demands in front of the government, based on the observations of the Yatra. The Government was uninterested and turned eyes from their demands. Consequently, the Manch decided to launch a mass movement across Bihar to arouse the conscience of the people to fight the authoritarian regime. But, lack of resources and finances were major barriers to the proposed movement. However, none of these barriers were powerful enough to obstruct the vision of towering leadership of the Manch. A pan Bihar movement was launched and it received huge public support, as people felt associated with the issues raised by the Manch and received it with a great optimism. Lakhs of people associated themselves and became members of the Manch.
The Manch planned to organize its General Convention in Patna after the conclusion of the movement. The Convention energized and recharged the Manch as activists in large numbers turned out for the Convention. The number was so huge, that Shri Krishna Memorial Hall was filled with activists and thousands of activists kept standing outside to listen to their leadership in the Convention. The activists in common voice raised the demand to launch a political party under the banner of the Manch. However, the leadership declined the demand of the activists.
The success of the Manch with association of large number of activists and huge public support made a constant pressure to launch a political party. To discuss the future of the organization and the associated movement, the Manch decided to organize the ‘Chintan Shivir’, at Bodhgaya in April, 2012 to brainstorm about the policies and future of the organization. Out of several ideas and findings of the Shivir, launching a political party emerged as the major demand raised by the activists in common voice.
The resolution passed at the Chintan Shivir put forward the future path for working of the organization. The major issues to work upon in future included- waging war against authoritarian regime, fight against corruption and inefficiency of the government, work to bring the marginalized communities in the mainstream, and challenging the regime not only at the social, but also at the political level. This was how the political dimension was added to the organization. Hence, constitution of a strong political party was decided. However, there was a huge threat in the way of launching the political party.

Meanwhile, the Manch decided to organize a National Seminar at Malvankar Hall in Delhi. The Seminar was successful. However, the Manch had to suffer a major set-back as few leaders dissociated themselves from the organization fearing to lose their Membership of the Parliament. The dissociation affected the Manch, but the leaders were not at all disappointed. Convener of the organization, Shri Upendra Kushwaha was the only MP from Rajya Sabha in the organization. He was associated with the JD (U) Party and had four years left in his tenure as Member of the Parliament.
The members of the core committee of the organization decided to launch a political party. Subsequently, Shri Upendra Kushwaha resigned from the Membership of the Rajya Sabha and JD (U) as well. Following his resignation, a state level Rally was organized in Gandhi Maidan at Patna on 3rd March, 2013. It was decided during the rally in the presence of August gathering all future program will be held under the banner of Rashtriya lok Samta Party. Shri Upendra Kushwaha was declared as the National President of the Party and the flag of the Party with Blue, Green and White colours was released.
A Chintan Shivir cum Training Camp of the cadres was organized in Nalanda, following the constitution of the Party. A Seven-point vision document was handed over to the cadres and they were asked to fight against the authoritarian regime and expand the organizational base as well.
The Party became a part of the National Democratic Alliance (NDA) in the Lok Sabha Elections of 2014 and contested on three seats in Bihar. The Party marked its presence at the pan India level by winning all the three seats it contested. After its success, the Party extended its base in the states of Jharkhand, Uttar Pradesh, West Bengal, Delhi, Haryana, Uttarakhand, Rajasthan, Himachal Pradesh, Maharashtra, Kerala, Telangana, Andhra Pradesh, and North Eastern States.
Despite the major set-backs and difficulties, the Party is constantly fighting for Inclusive Development at Pan India Level and Particular in Bihar. Deriving inspiration from heroes of the Freedom Struggle and the Socialist Movement, the RLSP is constantly working for the development of the society, with ever increasing power.

पार्टी का इतिहास

शासन की तानाशाही व्यवस्था को चुनौती देने के लिए, ‘बिहार नव निर्माण मंच’ नामक एक गैर-राजनीतिक संगठन का जून, 2011 में गठन किया गया| संगठन का नेतृत्व बिहार के पिछड़े वर्गो और वंचित समुदायों से आए सामाजिक नेता कर रहे थे | संगठन की स्थापना उपेंद्र कुशवाहा, मंगनी लाल मंडल,शंकर झा आजाद, डॉ लातुफ-उर-रहमान सहित अन्य कई नेताओं ने की उपेंद्र कुशवाहा को सर्वसम्मति से संगठन के संयोजक के रूप में चुना गया |

स्थापना के पहले दिन से ही संगठन ने खुद को लोक कल्याण के लिए समर्पित कर दिया| तानाशाही, भ्रष्टाचार, लाल-फीताशाही और भाई-भतीजावाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए समाजवाद और सत्याग्रह का मार्ग अपनाने का निर्णय लिया गया | बिहार नव निर्माण मंच ने ‘संकल्प यात्रा’ के साथ अपनी यात्रा शुरू की, जिसने अत्यंत जन समर्थन प्राप्त किया और वंचित समुदाय के लोगों और किसानों ने अपने मुद्दों और समस्याओं को मंच के साथ साझा किया | मंच संकल्प यात्रा के अनुभवों से आश्चर्यचकित था, जिसमें ज्ञात हुआ कि तत्कालीन शासन का’गुड-गवर्नेंस’ का दावा लफ्फाजी के अलावा कुछ भी नहीं था |

संकल्प यात्रा के अवलोकनों के आधार पर मंच ने सरकार के सामने अपनी मांगें रखीं जिसे सरकार ने अनसुना कर दिया | नतीजतन, मंच ने तानाशाही शासन से लड़ने और लोगों की अंतरात्मा को जगाने के लिए बिहार में एक जन आंदोलन शुरू करने का फैसला किया | लेकिन, संसाधनों और आर्थिक कमी प्रस्तावित आंदोलन के लिए प्रमुख अवरोधक थे | हालांकि, कोई भी बाधा मंच के शक्तिशाली नेतृत्व के सामने रोड़ा बन नहीं पाया | इसके बाद मंच द्वारा एक बिहार व्यापी आंदोलन शुरू किया गया, जिसे विशाल जन समर्थन प्राप्त हुआ | लोगों ने मंच द्वारा उठाए गए मुद्दों को स्वयं से जुड़ा महसूस किया और संगठन को आशावादिता के साथ देखने लगे | लाखों लोग आन्दोलन से जुड़े और मंच के सदस्य बनते चले गए |

आंदोलन के समापन के बाद मंच ने पटना में कार्यकर्ता सम्मलेन करने की योजना बनाई | सम्मलेन में कार्यकर्ताओं का इतना विशाल हुजूम उमड़ा कि श्री कृष्ण मेमोरियल हॉल जैसा बड़ा सभागार भी छोटा पड़ गया | जितने कार्यकर्ता सभागार के अंदर थे, उससे कहीं ज्यादा बाहर खड़े होकर सम्मलेन का हिस्सा बन रहे थे | सम्मलेन की सफलता ने मंच को नयी उर्जा और उत्साह प्रदान किया | सम्मलेन में कार्यकर्ताओं ने एक स्वर में मंच के बैनर के तहत एक राजनीतिक दल की शुरूआत करने की मांग की | हालांकि, नेतृत्व ने कार्यकर्ताओं की मांग को टाल दिया |

मंच की सफलता, कार्यकर्ताओं का उत्साह और विशाल जन समर्थन के कारण मंच पर एक राजनीतिक दल बनाने का लगातार दबाव बन रहा था | संगठन और इससे संबंधित आंदोलन के भविष्य के बारे में चर्चा करने के लिए मंच ने अप्रैल, 2012 में बोधगया में ‘चिंतन शिविर’ का आयोजन करने का निर्णय लिया, जिसमें संगठन की नीतियों और भविष्य के बारे में मंथन करने की योजना बनायी जानी थी | शिविर के कई विचारों और निष्कर्षों में से, एक राजनीतिक पार्टी का गठन करना कार्यकर्ताओं द्वारा उठाए गए प्रमुख मांग के रूप में उभरा |

चिंतन शिविर में पारित संकल्प पत्र ने संगठन के भविष्य का मार्ग प्रदर्शित किया | संगठन ने भविष्य में काम करने के लिए निम्न प्रमुख मुद्दे तय किये-तानाशाही शासन के खिलाफ युद्ध स्तर पर भ्रष्टाचार और सरकार की अक्षमता के खिलाफ लड़ाई के लिए पिछड़े वर्गों को मुख्य धारा में लाने के लिए न केवल सामाजिक, बल्कि राजनीतिक रूप से कार्य करना | इस तरह से संगठन में राजनीतिक आयाम जुड़ गया | अतः, एक मजबूत राजनीतिक दल के गठन का निर्णय लिया गया | हालांकि, राजनीतिक दल को शुरू करने के रास्ते में एक बड़ा खतरा था |
इस बीच, मंच ने दिल्ली के माव लंकर हॉल में एक राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित करने का फैसला किया | संगोष्ठी सफल रही | परन्तु, मंच को एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा क्योंकि कुछ नेताओं ने संसद की सदस्यता जाने के डर से संगठन से खुद को अलग कर लिया | मंच इससे प्रभावित तो हुआ, लेकिन इसका मुख्य नेतृत्व बिल्कुल भी निराश नहीं हुआ | संगठन के संयोजक, उपेंद्र कुशवाहा राज्य सभा के एकमात्र सांसद थे | वह जद(यू)पार्टी से जुड़े थे और संसद के सदस्य के रूप में उनके कार्यकाल में लगभग चार साल बचे थे |

संगठन की कोर कमेटी के सदस्यों ने एक राजनीतिक पार्टी शुरू करने का फैसला किया | इसके बाद, उपेंद्र कुशवाहा ने राज्यसभा और जद(यू) की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया | अपने इस्तीफे के बाद, 3 मार्च 2013 को बिहार की राजधानी पटना के गांधी मैदान में एक राज्य स्तरीय रैली का आयोजन करने का फैसला किया गया | रैली ऐतिहासिक रूप से सफल हुई | इसी रैली में लाखों के भीड़ के समक्ष आगे का सफ़र राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के साथ तय करने का निर्णय लिया गया | रालोसपा की स्थापना जय किसान जय नौजवान नारे के साथ हुई | श्री उपेंद्र कुशवाहा को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया गया और नीला, हरा और सफेद रंगों के साथ पार्टी का झंडा जारी किया गया |

पार्टी की घोषणा के बाद राजगीर (नालंदा) में एक चिंतन सह प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया | सात सूत्री दृष्टि पत्र कार्यकर्ताओं को दिया गया और उन्हें शासन की तानाशाही के खिलाफ लड़ने और संगठनात्मक आधार का विस्तार करने के लिए कहा गया |

पार्टी 2014 के लोकसभा चुनावों में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का एक हिस्सा बन गई और बिहार में तीन सीटों पर चुनाव लड़ी | पार्टी ने तीनों सीटों पर जीत हासिल करके देश में अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज करा दी | अपनी सफलता के बाद, पार्टी ने झारखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और उत्तर पूर्वी राज्यों में अपना संगठनिक आधार बढ़ाया |

पार्टी के सामने आने वाली बड़ी मुश्किलों और कठिनाइयों के बावजूद पार्टी लगातार बिहार और राष्ट्र को विकसित करने के लिए लड़ रही है | स्वतंत्रता संग्राम और समाजवादी आंदोलन के नायकों से प्रेरणा प्राप्त करते हुए, आरएलएसपी लगातार बढ़ती हुई शक्ति के साथ समाज के विकास के लिए निरंतर काम कर रही है |

Call Now